भारतीय संस्कृति की विविधता

भारतीय समाज में एक ऐसी अनोखी संस्कृति का विकास हुआ है जिसमें विविधता में एकता का अनुपम उदाहरण देखने को मिलता है। हमारे राष्ट्रगान में “पंजाब सिन्ध गुजरात मराठा द्राविड उत्कल बंगा” का समावेश है, हमारा राष्ट्रगान भी विविधता को व्यक्त करता है।

प्राकृतिक प्रदेशिक विविधता क्या है ?

भारत एक विशाल देश है। उत्तर में वह हिमालय की उत्तुंग शिखरों से घिरा हुआ है तो दक्षिण में तीन ओर समुद्र से घिरा हुआ है। देश की प्राकृतिक बनावट समान नहीं है।

भूमंडलीकरण (globalization) क्या है

भारत में भूमण्डलीकरण की अवधारणा का सूत्रपात सन् 1991 में तत्कालीन वित्तमन्त्री मनमोहन सिंह द्वारा किया गया था। यह एक …

Read more

शिक्षा का अर्थ क्या है? Meaning and definition of Education

‘शिक्षा’ शब्द संस्कृत भाषा की ‘शिक्ष’ धातु से व्युत्पन्न हुआ है जिसका अर्थ होता है सीखना और सिखाना अर्थात् शिक्षा (Education) सीखने और सिखाने की प्रक्रिया होती है।

अधिगम का अर्थ और परिभाषा

अधिगम या सीखना एक बहुत ही सामान्य और आम प्रचलित प्रक्रिया है। जन्म के ठीक बाद से ही व्यक्ति सीखना प्रारम्भ कर देता है और फिर जीवन भर जाने-अनजाने कुछ-न-कुछ सीखता ही रहता है।

बुद्धि क्या हैं ? और इसकी परिभाषा

बुद्धि क्या हैं ? और इसकी परिभाषा

जिसके आधार पर बाल-वृद्ध, स्त्री-पुरुष, शिक्षित-अशिक्षित सभी किसी एक ही कार्य को सामान्य रूप से समान समय में और समान कुशलता के साथ नहीं कर पाते। इसी को हम बुद्धि (Intelligence) तत्व कहते हैं

स्मृति का अर्थ और परिभाषा

स्मृति (memory) एक प्रकार की मानसिक प्रक्रिया है जिसमें व्यक्ति धारण की गई विषय-सामग्री का पुनः स्मरण कर चेतना में लाकर पहचानने का प्रयास करता है। ज्ञानेन्द्रिय उत्तेजना को जब हमारा मस्तिष्क धारण करता है तो उसके चिह्न अंकित हो जाते हैं।

किशोरावस्था का अर्थ एवं परिभाषा

किशोरावस्था को अँग्रेजी भाषा में ‘एडोलसेन्स’ (Adolescere) कहते हैं। यह शब्द लैटिन भाषा के ‘एडोलेसियर’ (Adolescere) शब्द से बना है, जिसका अर्थ है, ‘परिपक्वता की ओर बढ़ना’ ।

मनोविज्ञान की शाखाएं कितनी है ?

स्पष्ट है कि मनोविज्ञान की विभिन्न शाखाएँ विशेष परिस्थितियों में पाए गए मानव व्यवहार के अध्ययन से सम्बन्धित हैं। अतः मनोविज्ञान की शाखाओं को दो प्रमुख भागों में विभाजित कर सकते हैं

शिक्षा मनोविज्ञान की परिभाषा

शिक्षा मनोविज्ञान, सामाजिक विज्ञानों की श्रृंखला में मनोविज्ञान के ज्ञान के क्षेत्र की व्यावहारिक शाखा है। इसका सम्बन्ध कक्षा-कक्ष अन्तःक्रिया के साथ-साथ सामाजिक दायभाग (Social Heritage) के हस्तान्तरण से भी है। ज्ञान के अथाह भण्डार को निरन्तर आगामी पीढ़ी में हस्तान्तरित करने में शिक्षक अहम् महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करता है।

बाल मनोविज्ञान का अर्थ एवं परिभाषा

आज मनोविज्ञान व्यावहारिक विज्ञान है, इसलिए जीवन के जिन-जिन क्षेत्रों में मनोविज्ञान के सिद्धान्त तथा व्यवहारों का अध्ययन किया जाता है, वे सब उसी की शाखायें बन जाती हैं। बालकों का अध्ययन जब मनोविज्ञान के आधार पर किया जाता है तो वह बाल मनोविज्ञान कहलाता है।

मनोविज्ञान का अर्थ और परिभाषा

प्राचीनकाल में मनोविज्ञान दर्शनशास्त्र की एक शाखा माना जाता था। परन्तु अब यहएक स्वतन्त्र विषय के रूप में हमारे सामने आता है। प्रारम्भ में इस विज्ञान का सम्बन्ध ‘आत्मा’ अथवा ‘अन्तःकरण’ से समझा जाता था।